ज़िद्दी चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि चुनाव तो ईवीएम से ही होंगे

‘इससे पता चलता है कि ईवीएम का लाभ सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को मिल रहा है और यह विपक्ष को खेल के मैदान से दूर ले जा रही है.’

ईवीएम पर चल रहे विवाद के बीच मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा है कि बैलट पेपर से हरगिज चुनाव नहीं होंगे. दिल्ली में एक समारोह में मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा, ‘मैं स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि हम बैलट पेपर के युग में हरगिज वापस नहीं जाने वाले हैं। आपको बता दें, लंदन में सैयद शुजा नाम के एक ईवीएम हैकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके दावा किया था कि भारत की ईवीएम मशीनों को हैक किया जा सकता है।

साथ ही उसने कहा था कि साल 2014 के लोकसभा चुनाव में ईवीएम के साथ छेड़छाड़ हुई थी. इसके बाद कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी ने इस प्रेस कॉन्फ्रेंस को लेकर एक दूसरे पर निशाना साधा था।

सैयद शुजा की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद भाजपा ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा था कि यह प्रेस कॉन्फ्रेंस कांग्रेस प्रायोजित है. केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पूछा था कि कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल वहां किस हैसियत से थे और वहां क्या कर रहे थे. इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि जब कोई विपक्षी दल जीतता है तो ईवीएम सही है, लेकिन भाजपा जीतती है तो ईवीएम मशीन में छेड़छाड़ी हो जाती है. इसके बाद कांग्रेस ने भी भाजपा पर पलटवार किया था।

इसी बीच अब आम आदमी पार्टी ने आगामी लोकसभा चुनाव में पुराने, आजमाए जा चुके बैलट पेपर का फिर से इस्तेमाल किए जाने की मांग की है. पार्टी ने कहा है कि मांग न पूरी होने की स्थिति में सभी विपक्षी दलों से चुनाव का बहिष्कार करने का आह्वान किया. आप के राज्यसभा सदस्य और उत्तर प्रदेश के प्रभारी संजय सिंह ने बताया कि ‘लोकतंत्र को बचाने और चुनाव प्रक्रिया में एक बार फिर लोगों का विश्वास स्थापित करने के लिए यह आवश्यक है।

आप के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने कहा कि इन हालिया खुलासों से स्पष्ट रूप से ईवीएम की निष्पक्षता धूमिल हुई है और इसलिए इसकी जगह बैलट पेपर का इस्तेमाल किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘इससे पता चलता है कि ईवीएम का लाभ सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को मिल रहा है और यह विपक्ष को खेल के मैदान से दूर ले जा रही है.’ पार्टी की प्रदेश इकाई के मुख्य प्रवक्ता वैभव माहेश्वरी ने दावा करते हुए कहा कि चुनाव आयोग यह मानने के लिए तैयार नहीं है कि ईवीएम से छेड़छाड़ हो सकती है. बता दें, इसके अलावा सपा और बसपा सहित अन्य कई विपक्षी दल भी ईवीएम पर सवाल उठाते हुए बैलट पेपर के इस्तेमाल की मांग कर रहे हैं।


Also Read:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here