मंकीपॉक्स वायरस का पहला मामला आया सामने, जानिए इसके लक्षण

उष्णकटिबंधीय जंगलों में भोजन के तौर पर खाए जाने वाले गैर पालतू स्तनधारियों, सरीसृपों, उभयचरों और पक्षियों के मांस को बुशमीट कहते हैं.

मंकीपॉक्स
मंकीपॉक्स

 

क्या है मामला ?

सिंगापुर में मंकीपॉक्स (Monkeypox) का अब तक का पहला मामला सामने आया है. बताया जा रहा है कि एक नाइजीरियाई व्यक्ति इस बीमारी को लेकर आया जो एक शादी में बुशमीट खाकर इस दुर्लभ वायरस के संपर्क में आया.

गौरतलब है कि उष्णकटिबंधीय जंगलों में भोजन के तौर पर खाए जाने वाले गैर पालतू स्तनधारियों, सरीसृपों, उभयचरों और पक्षियों के मांस को बुशमीट कहते हैं.

मंकीपॉक्स क्या है

मंकीपॉक्स एक संक्रामक बीमारी है जो मंकीपॉक्स वायरस के कारण होती है जो मनुष्यों सहित कुछ जानवरों में हो सकती है। लक्षण बुखार, सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, सूजन लिम्फ नोड्स और थकान महसूस होने के साथ शुरू होते हैं। इसके बाद फफोले बन जाते हैं और छाले बन जाते हैं।

मंकीपॉक्स केस, नाइजीरिया
मंकीपॉक्स केस, नाइजीरिया

मध्य और पश्चिमी अफ्रीका के कुछ हिस्सों में महामारी का रूप ले चुके मंकीपॉक्स के मनुष्यों में मिलने वाले लक्षणों में आघात, बुखार, मांसपेशियों में दर्द और ठंड लगना शामिल है.

आमतौर पर यह बीमारी जानलेवा नहीं होती लेकिन दुर्लभ मामलों में जानलेवा भी हो सकती है.

शहर के स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि जो व्यक्ति यह वायरस लेकर आया वह 28 अप्रैल को सिंगापुर पहुंचा था.

मंकीपॉक्स का एशिया में पहला केस, सिंगापुर
मंकीपॉक्स का एशिया में पहला केस, सिंगापुर

मंत्रालय ने बताया कि 38 वर्षीय व्यक्ति को दो दिन बाद इसके लक्षण दिखाई दिए और अभी उसे स्थिर हालत में एक संक्रामक रोग केंद्र में अलग-थलग रखा गया है.

मंत्रालय ने कहा, ‘‘हालांकि इसके फैलने का खतरा कम है लेकिन फिर भी स्वास्थ्य मंत्रालय एहतियात बरत रहा है.”

 

Leave a Reply