कोलकाता में गरजे विपक्ष के एकजुट नेता

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व में नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष की महारैली के लिए मंच पूरी तरह सज चुका है. इस रैली शरीक होने के लिए ममता बनर्जी के अलावा डीएमके नेता एमके स्टालिन, अखिलेश यादव, किरणमय नंदा, जिग्नेश मेवानी और हार्दिक पटेल ब्रिगेड ग्राउंड पहुंच चुके हैं.

विपक्ष की इस महारैली को संबोधित करते हुए हार्दिक पटेल ने कहा

यह रैली बीजेपी के अंत की शुरुआत है. इस पाटीदार नेता ने कहा, ‘सुभाष बाबू गोरों से लड़े थे, हम सब चोरों से लड़ेंगे.’ उनके इस बयान को मोदी-शाह की जोड़ी पर निशाने की तरह देखा जा रहा है.

ममता बनर्जी की इस रैली में भाग लेने के लिए कोलकाता पहुंचे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा

‘नरेंद्र मोदी और अमिह शाह देश के लिए खतरा हैं. इन लोगों को देश से उखाड़ फेंकने की जरूरत है. मैं ममता बनर्जी के इस कदम की सराहना करता हूं और उनकी रैली में भाग लेने के लिए यहां आया हूं.’

शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि

अब तानाशाही नहीं चलेगी. उन्होंने रातोरात नोटबंदी की घोषणा कर दी और यह फैसला करते वक्त यह भी नहीं सोचा कि देश का क्या होगा. आम लोगों, मजदूरों और रेहड़ी वालों का क्या होगा. यह फैसला पार्टी का नहीं था. अगर पार्टी का होता तो वरिष्ठ नेताओं को तो पता होता. ऐसा भी कहा जाता है कि देश के वित्त मंत्री को भी इस बारे में जानकारी नहीं थी.

तेजस्वी यादव ने कहा कि

हमें देश को जोड़ने का काम करना चाहिए. अब बीजेपी भगाओ, देश बचाओ का वक्त आ गया है. चौकीदार जी जान लें कि थानेदान देश की जनता है. हमारी अनेकता में एकता है और हम लोग मिलकर देश को तरक्की की राह पर ले जाएंगे.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि

इस सभा के लिए सोनिया गांधी का संदेश है कि किसान से लेकर जवान तक, युवाओं को रोजगार से लेकर आर्थिक विकास के रास्ते पर यह सरकार असफल रही है. पीएम मोदी समाज को तोड़ने  का काम कर रहे हैं. वैसे तो वे बोलते हैं कि मैं न खाउंगा और न ही खाने दूंगा, लेकिन इसके बावजूद वह कुछ खास लोगों को फायदा पहुंचा रहे हैं.

डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन ने अपना संबोधन तमिल भाषा में किया

उनके भाषण को ट्रांसलेट किया जा रहा है. इस दौरान उन्होंने पीएम मोदी की हमला बोलते हुए कहा कि ‘मोदी हटाओ, देश बचाओ’ उन्होंने कहा कि मैं मोदी के खिलाफ हूं. वह देश में विभाजन की राजनीति कर रहे हैं.

अखिलेश यादव ने कहा कि

नया साल शुरू हो गया है, आपने बहुतों को बधाई दी होगी. हम सभी खुश थे जब कैलेंडर बदल गया. तो कल्पना कीजिए जब नया पीएम पद संभालेगा तो कितनी खुशी मिलेगी. पीएम चेहरे को लेकर वे हमें चिढ़ाते हैं लेकिन आगामी चुनाव में जनता अगले प्रधानमंत्री का फैसला करेगी.

इन लोगों ने देश की जनता को परेशान किया है. देश में दंगा भड़काने का काम किया है. अब आपके पास दूसरा विकल्प है. हमने गठबंधन का तरीका भाजपा से ही सीखा है. चुनाव आते-आते बीजेपी सीबीआई और ईडी से गठबंधन कर रही है और हम लोग जनता की आवाज से गठबंधन कर रहे हैं.

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा

‘मैं बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को इस आयोजन के लिए बधाई देना चाहता हूं. लोग पहले सोचते थे कि गठबंधन संभव नहीं है. लेकिन 12 जनवरी को जब सपा और बसपा ने गठबंधन किया तो हमें लोगों से अच्छी प्रतिक्रिया मिली. अब हम एक बड़ा गठबंधन पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं.’

बसपा नेता सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा कि

केंद्र सरकार हर मौके पर नाकाम रही है. पहले बहुत सारे वादे किए गए और सत्ता में आने के बाद सरकार सभी वादे भूल गई. इस सरकार में किसान, मजदूर और गरीबों को परेशान किया जा रहा है. करोड़ों लोग बेरोजगार होकर घूम रहे हैं. इस सरकार को उखाड़ फेंकना जरूरी है. ऐसा करने के लिए विपक्ष को एक करना जरूरी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here