अमेरिका के हैकरों का दावा, बीजेपी ने चुनाव ईवीएम हैकिंग से जीता

लोकसभा चुनाव में तीन महीने से भी कम का समय बचा है. ऐसे में ईवीएम की सुरक्षा को लेकर एक बार फिर सवाल उठ रहे हैं. इन सवालों के बीच ही लंदन में एक एक्सपर्ट बताएंगे कि किस तरह भारतीय EVM को हैक किया जा सकता है.

अमेरिका के हैकरों का दावा है कि बीजेपी ने लोकसभा चुनाव और 2017 मे उत्तर प्रदेश का चुनाव ईवीएम हैकिंग से कैसे जीता है आज लंदन में एक्सपर्ट बताएंगे।

आपको बता दे कि 2004 के बाद से ही भारत में चुनाव में ईवीएम का इस्तेमाल तेजी से हो रहा है. 2014 के चुनाव के बाद कई विपक्षी दलों ने बीजेपी पर ईवीएम में धांधली करने का आरोप लगाया है. 2019 के लोकसभा चुनाव में अब सिर्फ तीन महीने ही बचे हैं, रिपोर्ट्स की मानें तो चुनाव आयोग मार्च महीने की शुरुआत में चुनाव की तारीखों को ऐलान कर सकता है।

आप नेता दिल्ली विधान सभा में इवीएम हैकिंग को समझाते हुए

आप नेता दिल्ली विधान सभा में इवीएम हैकिंग को समझाते हुए
आप नेता दिल्ली विधान सभा में इवीएम हैकिंग को समझाते हुए

कोलकाता में हुई विपक्षी दलों की महारैली के बाद नेताओं ने ईवीएम की सुरक्षा के मुद्दे को जोर-शोर से उठाया. विपक्षी पार्टियों की ओर से एक समिति का गठन किया गया है, जो ईवीएम की सत्यता पर मंथन करेगी और इसके बारे में चुनाव आयोग को अपनी शंकाओं से अवगत कराएगी।

विपक्ष की इस समिति में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव, कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी, बहुजन समाज पार्टी नेता सतीश चंद्र मिश्र और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल शामिल हैं. इस मुद्दे को लेकर ये लोग जल्द ही चुनाव आयोग से मुलाकात भी कर सकते हैं।

हालांकि विपक्ष को इससे कोई फायदा नही है कयोकि बीजेपी के पास इस समय सबसे ज्यादा पैसा है और वह चुनाव जीतने के लिए एक दो लाख करोङ रुपये ईवीएम हैक कराने पर खर्च कर देगी जो शायद विपक्ष के वश की बात नही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here